utha patak

uthapatak.com

शुद्ध हवा चाहिए तो घर के बाहर लगाएं ये पौधे, बीमारी होगी दूर!

Apr 072018

पौधे हमारे लिए कितने आवश्यक हैं यह तो लगभग हर कोई जानता है। वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा बनाए रखने के साथ ही प्रकृति के ये कीमती उपहार और भी कई मायनों में साबित हो सकते हैं हमारे मददगार। घर में लगे ये पौधे घर की सुंदरता को तो बढ़ाते ही हैं। साथ ही कई मायनों में लाभकारी साबित होते हैं। घर में सकारात्मक ऊर्जा लाने, शोभा बढ़ाने के साथ ही नेचुरल एयरप्यूरिफायर ये पौधे अच्छी नींद लाने में भी होते हैं काफी सहायक। हालांकि मिथ यह भी है कि घर के अंदर रखे पौधे रात में कार्बन डाई ऑक्साइड का उत्सर्जन करने लगते हैं। फिर भी प्रकृति में कुछ ऐसे पौधे भी हैं जो आपके आसपास शुद्ध वातावरण बनाए रखने की जिम्मेदारी बखूबी निभाते हैं वह भी दिन-रात...

undefined

                                  * घर में सकारात्मक ऊर्जा लाने       *  शोभा बढ़ाने के साथ ही नेचुरल एयरप्यूरिफायर       * ये पौधे अच्छी नींद लाने में भी होते हैं काफी सहायक।

 

चमेली

बालों को सजाना हो तो चमेली की खूबसूरती का जवाब नहीं, मगर खूबसूरती बढ़ाने वाला यह आकर्षक और खुशबूदार चमेली का पौधा आपके तनाव और बेचैनी को कम करके आपको बेहतरीन नींद भी देता है। साथ ही
देता है सकारात्मक ऊर्जा की सौगात।

 

लैवेंडर

undefined

लैवेंडर आयल के फायदों के बारे में तो आपने सुना ही होगा। इसके पौधे को घर में लगाने के और भी कई फायदे हैं। यह वातावरण के साथ-साथ आपके मूड को भी सकारात्मक बनाए रखता है। इसके अलावा यह बेचैनी और तनाव को भी कम करता है। साथ ही बेहतर और आरामदायक नींद लेने में मदद करता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि लैवेंडर के पौधे को घर में रखने से छोटे बच्चों को मिलती है गहरी नींद और इसकी अरोमा थेरेपी कर देती है नई मांओं को तनाव से कोसों दूर।

 

एलोवेरा

त्वचा संबंधी कोई भी सौंदर्य उत्पाद हो उसमें एलोवेरा का इस्तेमाल न हो यह हो ही नहीं सकता। त्वचा को सुंदर बनाने के साथ ही यह पौधा देता है आपको अच्छी नींद का तोहफा भी। छोटे-मोटी खरोंच और जलन में मददगार एलोवेरा रात को ऑक्सीजन छोड़ता है, जिससे नींद न आने की परेशानी दूर हो जाती है। इसके रस का सेवन स्वास्थ्य के लिए भी है लाभकारी।

 

स्पाइडर प्लांट

undefined

इस पौधे को इसकी बिखरी हुई पत्तियों से पहचाना जा सकता है। स्पाइडर प्लांट कैंसर का खतरा उत्पन्न करने वाले केमिकल्स से वातावरण को शुद्ध करता है। इसके साथ ही वातावरण की दुर्गंध को सोखकर आपके लिए नींद का आनंदमय वातावरण भी कर देता है तैयार।

 

 
 
 
 

सेक्स से ज़ुड़ी रोचक बातें

Mar 092018

1. सप्ताह में दो या तीन बार सेक्स करनेवाले लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है.

2. एक सर्वे के अनुसार, 60% पुरुष चाहते हैं कि सेक्स के लिए औरत पहल करे.

3. सेक्स के दौरान हार्ट अटैक से मरनेवाले पुरुषों में से 85% पुरुष ऐसे होते हैं, जो अपनी पत्नी को धोखा दे रहे होते हैं.

4. जिन लोगों को अनिद्रा की शिकायत हो, उनके लिए सेक्स से बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता, क्योंकि सेक्स के बाद अच्छी नींद आती है. रिसर्च के अनुसार, ये नींदवाली दूसरी दवाओं की तुलना में 10 गुना ज़्यादा कारगर है.

5. 20% पुरुषों को ओरल सेक्स से आनंद आता है, जबकि 6% महिलाओं को ये महज़ फोरप्ले का हिस्सा लगता है.

6. अमेरिका में 12-15 साल के किशारों में ओरल सेक्स का चलन तेज़ी से बढ़ रहा है और मज़ेदार बात तो ये है कि वो इसे सेक्सुअल क्रिया मानते ही नहीं.

7. 25 % महिलाएं सोचती हैं कि पुरुष रुपए–पैसे से सेक्सी बनता है.

8. ज़्यादा सेक्स करनेवाले पुरुषों की दाढ़ी अपेक्षाकृत तेज़ी से बढ़ती है.

9. लेटेक्स कंडोम की औसत लाइफ़ 2 साल होती है.

10. रोमांटिक उपन्यास पढ़नेवाली औरतें ऐसे उपन्यास न पढ़नेवाली औरतों की तुलना में सेक्स का ज़्यादा आनंद उठा सकती हैं.


11. यूनिवर्सिटी ऑफ रोचेस्टर्स के मनोवैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध के अनुसार, पुरुष किसी भी दूसरे रंग के मुक़ाबले लाल रंग के परिधान में महिलाओं की ओर ज़्यादा आकर्षित होते हैं.

12. हाल ही में हुए शोध के अनुसार, जिन महिलाओं में इमोशनल इंटेलिजेन्स (अपनी भावनाओं को समझने के साथ–साथ अपने आसपास रहनेवाले लोगों की भावनाओं व ज़रूरतों की समझ) बेहतर होती है, वे सेक्स में उतनी ही अच्छी पार्टनर साबित होती हैं.

13. अक्सर कहा जाता है कि महिलाओं को सेक्स के लिए उत्तेजित होने में कम से कम 20 मिनट का समय लगता है, परंतु शोध से पता चला है कि किसी पुरुष की कल्पना और फोरप्ले से उत्तेजित होने में उन्हें मात्र 10 मिनट लगता है.

14. पुरुष तथा महिलाएं दोनों ही एक दिन में कई बार ऑगैऱ्ज्म का अनुभव कर सकते हैं.

15. अगर किसी महिला में सेक्स उत्तेजना उत्पन्न नहीं होती, तो एक बार ‘बर्थ कंट्रोल पिल्स’ को बदलकर देखें, क्योंकि कई बार अलग–अलग पिल्स में पाए जानेवाले हार्मोंस सेक्स की उत्तेजना को प्रभावित करते हैं. इन्हें बदलने से समस्या हल हो सकती है.

16. कई बार सीमेन (वीर्य) से ब्लीच जैसी गंध आती है. इससे कोई हानि नहीं है. यह प्राकृतिक डिसइंफेक्टेंट होता है एवं स्पर्म्स को योनि में पाए जानेवाले एसिड के बुरे प्रभाव से बचाता है.

17. एंकलबोन के नीचे एड़ी में सर्कुलर मसाज करने से सेक्सुअल उत्तेजना बढ़ती है.

18. पुरुष रात्रि की नींद के दौरान औसतन 4 या 5 बार इरेक्शन अनुभव करते हैं.

19. रिसर्च द्वारा पता चला है कि जो लड़कियां साइकिल रेस में हिस्सा लेती हैं या हर हफ़्ते 100 मील साइकिल चलाती हैं, उनकी बाह्य जननेंद्रियों का सेंसेशन कम हो जाता है.

20. पेनिस की लंबाई का ऑर्गैज़्म से कोई संबंध नहीं होता, क्योंकि योनि का केवल 1/3 भाग ही संवेदनशील होता है. अगर सेक्स पोज़ीशन सही हो, तो छोटा पेनिस भी ऑर्गैज़्म दे सकता है.

21. जर्मन शोधकर्ताओं के अनुसार, सुरक्षित रिलेशनशिप में महिलाओं की सेक्सुअल इच्छा कम हो जाती है. 4-5 साल साथ–साथ रहने के बाद महिलाएं पुरुषों की इच्छानुसार सेक्स करती हैं.

22. ऐसे पुरुष, जिनके अनेक स्रियों से संबंध होते हैं, वे सेक्स को बहुत महत्वपूर्ण तो समझते हैं, परंतु अपने रिलेशनशिप से पूरी तरह संतुष्ट नहीं होते.

23. एक सर्वे के अनुसार, सेक्स के लिए कपल्स की सबसे पसंदीदा जगह बेडरूम के अलावा कार होती है.

24. यूनिवर्सिटी ऑफ ट्रॉम्प में हुए रिसर्च के अनुसार, नीली आंखोंवाले पुरुष अक्सर नीली आंखोंवाली स्री को ही पसंद करतेे हैं. यदि उनका बच्चा भूरी आंखोंवाला हुआ, तो वे सोचते हैं कि उनकी पत्नी ने उनके साथ धोखा किया है. वैसे आनुवांशिकता का नियम भी यही कहता है.

25. महिलाएं पीरियड्स के दौरान या उसके ठीक पहले ज़्यादा सुखद ऑर्गैज़्म का अनुभव करती हैं. ऐसा उनके पेल्विक एरिया में रक्तसंचार के बढ़ने के कारण होता है.

undefined
26. सेक्स के दौरान पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं ज़्यादा कल्पनाशील हो जाती हैं. इस तरह की सेक्सुअल फेंटेसी से उन्हें संतुष्टि तो मिलती ही है, आपसी संबंध भी मज़बूत होते हैं.

27. जो पुरुष ज़्यादातर सेक्सुअल फेंटेसी में रहते हैं, वे अपने रोमांटिक रिलेशनशिप से कम संतुष्ट रहते हैं.

28. एक रिसर्च के अनुसार, कॉलेज के दौरान जो लड़के सेक्स में लिप्त रहते हैं, वे अक्सर डिप्रेशन में चले जाते हैं, जबकि सेक्स न करनेवाले विद्यार्थी नॉर्मल रहते हैं.

29. कुछ महिलाओं को सीमेन (वीर्य) से एलर्जी होती है. सीमेन में मौजूद प्रोटीन के कारण उनके जननांग एवंं शरीर के अन्य हिस्सों पर जलन व खुजली की समस्या हो जाती है.

30. अध्ययन बताते हैं कि सेक्स से सिरदर्द व जा़ेडों का दर्द दूर होता है. वास्तव में ऑर्गैज़्म के तुरंत बाद ऑक्सीटोसिन हार्मोन का लेवल 5 गुना बढ़ जाता है, जिससे एंडॉरफिन हार्मोन का स्राव होता है. यह दर्द को दूर भगाता है.

31. सामान्यतः ऐसा समझा जाता है कि प्रेग्नेंसी से सेक्स की इच्छा मर जाती है, परंतु ऐसा नहीं है. गर्भावस्था के दौरान ज़्यादातर महिलाओं की सेक्स की इच्छा या तो बढ़ जाती है या पहले जैसी ही होती है.

32. रिसर्च के अनुसार, सिगरेट नहीं पीनेवालों की सेक्स की इच्छा, आनंद व संतुष्टि सिगरेट पीनेवालों की अपेक्षा ज़्यादा होती है.

33. जर्नल ऑफ सेक्स रिसर्च के अनुसार, कपल्स सामान्य तौर पर फोरप्ले में 11 से 13 मिनट लगाते हैं.

34. एक सर्वे के अनुसार, हफ़्ते में 3 या 4 बार सेक्स करने की इच्छा रखनेवाले पुरुषों व महिलाओं की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है.

35. जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में छपी रिपोर्ट के अनुसार, बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा कम हो जाती है.

Atom

UTHAPATAK INC. UTHAPATAKCHANNEL@GMAIL.COM . +91-9876643796